International Journal of Pure and Applied Researches - www.ijopaar.com
ISSN: 2455-474X

Anybody can submit their paper by mailing us at iafpaar@gmail.com

2019; Volume 1 (Issue 1): 25/02/2019

Contents
Sl. Paper ID Title / Authors Page Nos. Abstract Download
1 A19102 Motion of Hydrodynamic Fluid through Bearing of Type "h=ho Exp.(θ); θ=f(y)" for Rotation pp. 01-07 Download Download
2 A19105 Motion of Fluid in Rayleigh Step Slider Bearing for Rotatory Lubrication Theory of Second Order pp. 08-14 Download Download

News / Notice Board

27-02-2019 - THE SUBMISSION OF RESEARCH PAPERS WILL BE CONSIDERED TO TRANSFER THE COPYRIGHTS TO IJOPAAR. THE PAPERS ONCE SUBMITTED CAN'T BE WITHDRAWN IN ANY CASE. THE DECISIONS OF THE CHIEF EDITOR WILL BE FINAL. 27-02-2019 - THE ORIGINAL PLAGIARISM FREE RESEARCH PAPERS ARE INVITED FOR OUR QUARTERLY JOURNAL. 01-09-2018 - UGC INDEXINGयूजीसी ने जर्नल अथवा पत्रिकाओं की एप्रूवल को आप्शनल कर दिया है । ज़्यादातर शोधार्थियों व प्राध्यापकों में अभी भी भ्रम की स्थिति बनी हुई है कि ये पत्रिका में शोध पत्र छपवाने से एपीआई में मान्य होगा या नहीं और ये जर्नल अथवा पत्रिका यूजीसी कि लिस्ट में है या नहीं । आपको जानकारी के लिए बता दूँ कि यूजीसी ने अपने 18 जुलाई 2018 को जारी ऑर्डिनेंस में साफ कह दिया है कि जर्नल अथवा पत्रिका यूजीसी एप्रूव्ड अथवा peer reviewed (पूर्व समीक्षित) हो । यानि जर्नल यूजीसी एप्रूव्ड नहीं भी है और peer reviewed (पूर्व समीक्षित) है तो उसमें छापे आपके शोध पत्र एपीआई में मान्य होंगे । जर्नल के मुख्य पेज पर ही लिखा होता है कि कौन सी पत्रिका यूजीसी एप्रूव्ड है और peer reviewed (पूर्व समीक्षित) है ।